Follow by Email

Followers

Wednesday, 5 September 2012

टीचर डे

आज इस 'टीचर डे' के मौके पर एक शिक्षक और स्टूडेंट के बीच का रिश्ता एक कविता के जरिए व्यक्त कर रहा हूं!

एक मेरे तरह ही नटखट छात्र ने अपने टीचर को SMS भेजा :-

सर, फ्राई हो गया है भेजा !

समंदर जितना सिलेबस है

नदी जितना पढ़ पाते हैं ,

बाल्टी जितना याद होता है

गिलास भर लिख पाते हैं !

चुल्लू भर नंबर आते हैं,

उसी में डूब के मर जाते हैं !

टीचर ने जबावा लिखा :-


मुझे तो तुम जैसा कोई

चुल्लू में डूबता नहीं दिखा !

चुल्लू में डूबने के मुहाबरे

का मजाक बनाते हो,

गिलास भर नंबर के लिए

हमारे आगे रिरियाते हो !

मना करने पर बाल्टी भर

अपमान को पी जाते हो !

नदी भर बेशर्मी दिखाते हो,

और बाहर निकलते ही समंदर

भर ठहाके लगते हो !

Thank You टीचर !