Follow by Email

Followers

Tuesday, 29 December 2015

पाकिस्तान को लव-लेटर नहीं, लव की ज़रूरत!



पाकिस्तान को लव-लेटर लिखने की ज़रूरत नहीं है। ये तो यूपीए सरकार करा करती थी। एनडीए सरकार तो कुछ अलग करेगी ना। लिहाजा अब पाकिस्तान से लव करने की जरूरत है। प्रधानमंत्री मोदी की पाकिस्तान की सरप्राइज विजिट तो यही संकेत देती है। हालांकि प्रधानमंत्री ने एक साहसिक कदम उठाया। मैं तहेदिल से इसका स्वागत करता हूं। मैरा भी यही मानना है कि बात करने से ही बात बनेगी। यह मैं यूपीए सरकार के समय भी कहता था और अब भी। लेकिन यूपीए के समय जब भी ऐसे कदम की मैं सराहना करता था। मेरे कुछ दोस्त मुझे कांग्रेसी कहकर चिढ़ाते थे। आज उन्हीं दोस्तों को अचानक इस सरप्राइज विजिट के बाद पाकिस्तान से प्यार हो गया। यूपीए सरकार गए अभी दो साल भी नहीं हुए हैं। आतंकवाद के खिलाफ और उस बहाने पाकिस्तान के खिलाफ माहौल बनाए रखने के लिए तब विपक्ष में रही बीजेपी के रुख को इतनी जल्दी भुलाया नहीं जा सकता। सीमा पर होने वाली शहादत को लेकर राजनीतिक रूप से बीजेपी भाषाई उन्माद फैलाने में लगी थी। सुषमा ने एक सर के बदले दस सर का बयान दिया था। लेकिन अब कोई शहीदों के घर जाकर भावुकता का उन्माद नहीं फैलाता।
जरा सोचकर देखें कि अगर मनमोहन सिंह ने पाकिस्तान से बातचीत का ऐसा रुख दिखाया होता तो बीजेपी का क्या रवैया होता?  इस काल्पनिक स्थिति को यह कहते हुए भी खारिज नहीं किया जा सकता कि तब स्थितियां अलग थीं। क्योंकि पाकिस्तान की तरफ से हाल फिलहाल में ऐसा कोई भी संकेत नहीं आया है कि हालात बदले हैं। बीजेपी के खुद के सहयोगी दल शिवसेना ने भी ये सवाल उठाया कि यदि कोई कांग्रेस का प्रधानमंत्री इसी तरह करता को क्या बीजेपी ऐसे ही उनका स्वागत करती।
खैर मनमोहन सिंह में यह साहस नहीं था। वे बीजेपी के हमलों के आगे झुक गए। मनमोहन सिंह ने दस साल तक पाकिस्तान ना जाकर इसे साफ कर दिया कि वो डरपोक पीएम हैं। लेकिन अब देश को 56 इंच की छाती वाले पीएम मिले हैं तो इस तरह के सरप्राइज मिलते रहेंगे। मोदी सत्ता संभालने के बाद से ही ऐसे सरप्राइज देते रहे हैं। पहले पड़ोसी देशों के राजनेताओं को शपथग्रहण समारोह के लिए बुलाकर, फिर काठमांडू में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से नजरें फेरकर, विदेश सचिवों की बातचीत को रोककर और फिर पेरिस में अचानक नवाज शरीफ से मुलाकात कर। अब देखना दिलचस्प होगा कि मोदी के इस सरप्राइज गिफ्ट के बाद हमे रिटर्न गिफ्ट में क्या मिलता है? 

बहरहाल मोदी के इस सरप्राइज को देखकर कई प्यार करने वाले युवाओं को सीख मिली होगी कि आखिर सरप्राइज होता क्या है और देते कैसे है? मुझे भी इस सरप्राइज को देख अपने प्यार की याद आ गई। मैंने भी सालों पहले अपने प्रेमिका को ऐसा ही सरप्राइज दिया था। जब परीक्षा के सिलसिले में दिल्ली से पटना गया था और वहां से अचानक एक रात अपनी प्रेमिका से फोन पर बात हुई और मैं उससे मिलने अचानक घर पहुंच गया था। तब मेरी प्रेमिका से लेकर घर वाले तक भौंचक रह गए थे। ठीक इसी तरह जिस तरह मोदी के पाक दौरे ने लोगों को भौंचक कर दिया। 

आप हम से ट्विटर या फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

https://www.facebook.com/sonu.kumar.75436


https://twitter.com/jhazone